ShabboBhabhiChuswaAaiKishmish
Search File :

दोपहर हो चली थी, शब्बो ने खेत में काम करने गए अपने देवर सलीम के लिए खाना बांधा ओर अपनी बेटी कहकशाँ को आवाज़ दी

शब्बो- बेटी कहकशाँ, जा तू खेत में अपने चाचू को खाना दे आ!

कहकशाँ- नहीं जाऊँगी… मुझे अभी हुसैना के घर जाना है।

बाहर शब्बो का शराबी और जाहिल शौहर आलम मियाँ अभी तक चारपाई पे बैठा हुक्का गुड़गुड़ा रहा था।

शब्बो ने सोचा कि वो उसे ही कह देगी भाई का खाना देकर आने को!

शब्बो खाना बांध कर बाहर लाई और अपने मिंया से बोली- जाओ सलीम को खाना दे आओ!

यह सुनते ही आलम-मियाँ भड़क गए- साली, माँ की लौड़ी, मुझे बोल रही है? तेरे बाप का नौकर हूँ मादरचोदी?

शब्बो कुछ नहीं बोली, वह जानती थी कि इस हरामी पिल्ले को बोलने का कोई फायदा नहीं, यह ना काम का, ना ठुकाई का, बस दुश्मन रोज ढाई सेर अनाज का।

वह खुद ही बुरका पहन खाना लेकर खेतों की ओर चली।

उनके खेतों में सलीम मजदूरों के साथ काम कर रहा था, माथे से बहता पसीना और उसका गठीला बदन जो मेहनत करते करते लोहे सा मजबूत हो गया था।

शब्बो ने खाना खेतों के बीच बने एक छोटी कोठरिया में रख दिया और बाहर काम कर रहे एक मजदूर को बोली- सलीम को बोल कि खाना खा लेगा।

मजूदर ने जाकर सलीम को बोला कि आपकी भाभीजान आपको खाने के लिए बुला रही हैं।

सलीम वहीं काम छोड़ कर चल पड़ा।

कोठरी में पहुँच कर उसने सब मजदूरो को कहा- जाओ, तुम भी खा पी लो!

यह सुन कर सब लोग वहाँ से चले गए, सलीम उस कोठरी के अंदर गया और दरवाजा अंदर से बन्द कर लिया।

शब्बो ने उसे एक तौलिया दिया, सलीम ने अपने माथे का पसीना पोंछा लेकिन उसकी नज़र बिना झुके ही शब्बो से मिल रही थी बल्कि शब्बो अपनी नज़र बार बार चुरा रही थी।

सलीम ने तौलिया नीचे रखा और दरवाज़ा बंद कर लिया, जाकर चारपाई पर बैठ गया।

सलीम ने एक मिनट के लिए भी अपनी नज़र अपनी शब्बो भाभी जान के बदन से नहीं हटाई।

शब्बो ने पास रखा खाना सलीम की तरफ बढ़ा दिया तो सलीम ने शब्बो का हाथ पकड़ा और उसे खींच कर अपनी गोद में बैठा लिया।

शब्बो- मत कर जाने दे मुझे !

सलीम- अभी नहीं पहले मुझे प्यार करने दो भाभीजान !

शब्बो- देख कोई आ जायेगा…

सलीम- नहीं आएगा, मैं हूँ न, यहाँ मेरी इजाज़त के बिना कोई नहीं आता।

यह यह बोलते ही सलीम ने शब्बो के बोबे, जांघ ओर पीठ पर हाथ फिरने लगा।

शब्बो- रात को करेंगे, अब जाने दे मुझे!

सलीम- भाभीजान, बस एक बार करने दो, फिर चली जाना। मुझसे रात तक सब्र नहीं हो पाएगा !

सलीम ने शब्बो को अपने ऊपर से हटा के साथ में लिटा दिया और झट से खड़ा हुआ, अपनी लुंगी खोली, चड्डी नीचे की और लण्ड को हाथ में पकड़ दो तीन झटके दिए।

शब्बो उसे ऐसा करते ही देख रही थी कि सलीम चारपाई पर आ गया और अपना लण्ड सीधा शब्बो के होंठों पर रख दिया।

लौड़ा भी बड़ी तेज़ी से खड़ा होकर अपनी औकात पर आ गया। लेकिन शब्बो ने अपना चेहरा एक तरफ कर लिया।

लगभग एक हफ्ते पहले की ही बात है, रात को जब अपने निकम्मे शौहर को छोड़ शब्बो अपनी मर्जी से अपने देवर सलीम के कमरे में आई थी और उसको अपना शौहर बना लिया था।

लेकिन इन औरतों का मूड भी शेयर-मार्किट जैसा होता है, ना जाने कब खुद-ब-खुद चुदवाने आ जाए, ना जाने कब मना कर दे!

सलीम वापस खटिया पर बैठ गया और एक हाथ से भाभी के बूबे दबाने लगा और दूसरे हाथ से उसकी पीठ सहलाने लगा।

अपना सर उसने भाभी के कंधे पर रखा और उसकी गर्दन को सूंघने और चुम्मियाँ लेने लगा लेकिन अभी अभी शब्बो कुछ खास जवाब दे नहीं रही थी।

सलीम ने अपना हाथ थोड़ा और नीचे किया और भाभी की जांघों को सहलाने लगा।

धीरे धीरे से उसने भाभी के बुरके को ऊपर खींचना शुरू किया। अंदर शब्बो ने केवल गाऊन और उसके नीचे घाघरा ही पहना था, वो भी बिना कच्छी के!

अब सलीम ने अपना हाथ भाभी की जांघों के बीच थोड़ा और अंदर किया और उसकी उंगलियाँ भाभीजान की जांघों को छूने लगी।

वो धीरे धीरे से भाभी की भोंस की गहराई पर उंगली फेरने लगा।

थोड़ी देर बाद, सलीम के सब्र का बांध टूट गया और वो तुरन्त ही अपने घुटनों के बल फर्श पर बैठ गया।

भाभीजान की दोनों टांगों को उसने अपने कंधों पर लिया और उनके भोंसड़े को लबालब चाटने लगा।

शब्बो भी धीरे धीरे से मस्ती में आने लगी और अपनी उंगलियों से सलीम के बालों को सहारने लगी।

अब सलीम ने भाभीजान की किशमिश (clitoris) को अपने मुँह में लिया और जैसे नवजात बालक अपनी माँ की चुचूक चुसता है, वैसे ही वो शब्बो के दाने को चूसने लगा।

शौहर के प्यार न मिलने से बन्ज़र हो चुकी शब्बो की फ़ुद्दी भी बेटे जैसे देवर की जीभ का प्यार पा कर हरी-भरी होने लगी, धीरे धीरे से पानी छोड़ने लगी।

कुछ मिनट और बीते तो अपनी मुलायम जांघों के बीच शब्बो ने बेटे का सर जोर से दबाया, उसके बालों को जोर जोर से खींचने लगी, मानो सिग्नल दे रही हो कि ‘अब मै उस मुकाम के करीब हूँ तू तेजी से जीभ चला!’

सलीम वैसे तो अलहड़ था लेकिन इशारों ही इशारों में समझ गया और भूखी बिल्ली के माफिक तेजी से अपनी जीभ चलाने लगा।

थोड़ी ही देर में शब्बो तो ‘हाय…अल्ला’ बोल के झड़ गई और थकी बेहाल होकर खटिया पर लिट कर हांफने लगी।

सलीम ने सोचा कि हाँ, अब देखता हूँ कि भाभी चुदवाने से कैसे मना करती है!

सलीम भी अब खटिया पर चढ़ गया और उसने अपनी भाभी शब्बो की टाँगों को हवा में उठा लिया।

इसकी वजह से शब्बो के भोसड़े के साथ उसका गाण्ड का छेद भी बिल्कुल साफ़ नज़र आ रहा था, अब वो गौर से अपने भाभी के पूरे बदन को मन भर के देखने लगा।

शब्बो ने शरमा कर अपने चहेरे को अपने हाथों से ढक लिया।

यह देख कर सलीम का लौड़ा तो पूरे जोर-शोर से एकदम लोहे के सरिये सा खड़ा हो गया।

सलीम ने ज्यादा देरी न करते हुए लौड़े को अपनी सगी भाभी की फ़ुद्दी के अंदर किया और थोड़ा ऊपर होकर चारपाई के दोनों ओर पैर रख लिए जैसे कोई टट्टी कर रहा हो, शब्बो की दोनों टांगें हवा में थी और सलीम का लण्ड चूत में जाने को बिल्कुल तैयार था।

सलीम ने अपनी कमर ऊपर करके लण्ड को चूत के अन्दर धकेला, भोसड़ी की चटाई करते वक्त लग सलीम के थूक और मुकाम के कारण निकले शब्बो के पानी के कारण उसका भोंसड़ा एकदम गीला व चुदने के लिए एकदम तैयार हो चुका था।

जैसे ही सलीम ने अपनी कमर से थोड़ा जोर लगाया, उसका पूरा का पूरा लौड़ा, शब्बो की भोंस में समा गया और शब्बो मुख से आह्ह निकल पड़ी।

यह कहानी आप मस्त मस्त कामिनी की अपनी साइट ‘मेरी सेक्स स्टोरी डॉट कॉम’ पर पढ़ रहे हैँ।

सलीम अपने जानदार लौड़े से अपनी भाभी की कमचुदी फ़ुद्दी को जोतने लगा, जैसे बीज बोने के लिये खेत तैयार कर रहा हो!

सलीम अपना खड़ा लंड धीरे धीरे अंदर बाहर कर रहा था, थोड़ा नीचे होता और लण्ड को पूरा अन्दर पेल देता।

शब्बो को चीखने का मन कर रहा था, वो चाहती थी कि वो जो महसूस कर रही है, अपने इस बेटे जैसे देवर को चिल्ला चिल्ला कर बताये पर वो खुद को संभाल रही थी कि कहीं खेत के मजदूर दौड़ कर आ ना जाएँ।

जब सलीम को लगता कि वह झड़ने की कगार पर है तो वो अपने धक्कों की गति धीमी कर देता और कभी कभी तो बिल्कुल ही हिलना बन्द करके अपना लौड़ा भाभीजान की चूत में रख कर, बिना हिले-डुले दो-तीन मिनट आराम ले लेता।

ऐसा करने में उसे बड़ा मज़ा आता था क्योंकि जैसे ही सलीम हिलना बन्द करता तो शब्बो अपने चूतड़ों को आगे पीछे करके अपनी ठुकाई चालू रखती और सलीम की कमर को पकड़ कर अपने हाथों से उसे अंदर बाहर करने के लिए धक्का देती।

एक अनुभवी औरत की चुदाई करना तो कड़ी धूप में खेतों में काम करने से भी कहीं ज्यादा थका देने वाला काम था।

सलीम के पसीने और छक्के छूटने लगे, उसने भाभीजान को जोर से एक चुम्मी देकर अपना मुँह शब्बो के मुख पर गड़ा दिया।

सलीम ने अपने धक्कों को तेज किया और लण्ड ऊपर होने वजह से चूत में घुस जाता था और फट से दूसरा धक्का लगा जा रहा था।

शब्बो ने अपने दोनों हाथों से खटिया के दोनों सिरों को पकड़ लिया, बस जैसे ही एक धक्का जोर से सलीम ने लगाया कि उसी वक्त शब्बो की चूत की छूट हो गई, दो चार धक्के मारने के बाद सलीम ने भी पानी छोड़ दिया।

सलीम बिना संभले शब्बो की चूचियों पर जा गिरा उसकी टांगें सीधी हुई जिसकी वजह से शब्बो की टांगें हवा से नीचे आकर ज़मीन पर लग गई, दोनों की सांसें बड़ी तेज चल रही थी।

शब्बो ने सलीम को अपने ऊपर से हटाया और ठण्डी हुई उसकी चूत से निकलता काफी सारा पानी उसकी जांघों तक पहुँच गया।

उसने पास में परने को उठा कर अपनी चूत के अन्दर का सारा पानी साफ़ किया और कपड़े पहनने लगी।

सलीम वहीं नंगा पड़ा अपने सगे भाई की जोरू को देख रहा था और अपने लण्ड हाथ में लेकर हिला रहा था।

'
 Add/View Comments (129)


Back To fat-show.ru
© fat-show.ru

Online porn video at mobile phone


b grade movie in hdsex story of babita and jethalalbalarama krishnulu songswww.badwap.comindian b grade movies free downloadbqdwapbgrade movies free downloadanjali bhabhi sex storybadwap storiesdownload b grade hindi moviestamil b grade full movie downloadhot movie free download in hindibadwap ibbadwap kingkutrala kuravanji songsb grade movie free downloadhindi b grade full movie downloadporn badwaphot badwap comhot hindi movie free downloadbadwap.comrajwap sex storiesbadwap com storiesbadwap co mtamil b grade full movie downloadwww bad wap.combadwapphot movie free download in hindibadwap co mmr badwap comb grade movie 3gpbadvwapbadwap..comtarak sex storyporn badwapfree b grade movie downloadhindi b grade movie watch onlinedaya bhabhi sex storybadwa0www bad wap netb grade hd movie downloadb grade movie siteenglishsexstorieshindi sex stories written in hindibaad waptelugu b grade movies free downloaddownload b grade hindi moviesbadwap.cimbadwap c9mtamil b grade hothot b grade movie free downloadbadwap sex storiesbadwap downloadtamil bgrade movies downloadbollywood hot movies free downloadsouth indian b grade movie downloadb grade movies freebadwaplrikshaw wale ne chodabad wap com sexwww badwap comewww.bad wap.combad wap in comhot movie free download in hindimiss teacher uncut movieb grade movie downloaddaya sex storymadhavi bhabhi ki chudaibadwap.cobadwwpchut ki picture dikhaodownload hindi b grade moviesb grade movies sitesbadwaepwww.badwap.combadwap mp3 downloadbad wapb grade movies free downloadbadwap.combadwap co m